Happy Ramadan Mubarak Shayari & SMS

Hello दोस्तों आज हम आपके लिए रमजान को बहुत ज्यादा खास बनाए के लिए बहुत ही प्यारी -प्यारी शायरीज Happy Ramadan Mubarak Shayari & SMS लेकर आये हैं , इस महीने में ALLAH की दी हर नेमत के लिए अल्लाह का शुक्र अदा किया जाता है। महीने के बाद शव्वाल की पहली तारीख को ईद उल फितर मनाया जाता है।रमजान के महीने में इस्लाम धर्म के लोग पूरे 30 दिनों तक रोजा रखते है| रोजा रखने वाले लोगों को रोजेदार कहा जाता है| रोजेदार सुबह 4 बजे से लेकर शाम 7 बजे तक बिना कुछ खाए-पिए रहते है| इस्लामी कैलेंडर के मुताबिक रमजान साल का नौवाँ महीना होता है जिसे हिजरी कहा जाता है। बता दें की इस्लाम के पांच स्थान में रोजे का विशेष स्थान होता है। रमजान के महीने में जकात और खैरात  यानी दान देने को भी बेहद पूरा का काम बताया गया है  इसलिए हम मुसलमान 1 साल में 1 महीने में जकात और खैरात निकालते हैं। और रमजान में दान करने से घर में बरकत आती है।

रमजान का महीना पुरे एक महीने का होता है इन दिनों में हम अल्लाह की इबादत पुरे मन से करते है। इसलिए हम आपके लिए इस पाक महीने में Happy Ramadan Mubarak Shayari & SMS  बेहद ही अच्छे-अच्छे मैसेज, शायरी, SMS, आदि लेकर आए है जो आपके रमजान के महीने को और सुन्दर बना देंगे।

Image result for ramadan mubarak poetry in hindi

Ramadan Mubarak Shayari in Hindi 2019 

ऐ चाँद उनको मेरा पैगाम कहना

खुशी का दिन और हसी की हर शाम कहना

जब वो देखे बहार आकर तो उनको मेरी तरफ से

मुबारक हो रमज़ान कहना


रमजान आया है, रमजान आया है
रहमतों का बरकतों का महीना आया है
लूट लो नेकियां जितना लूट सकते हो
पूरे एक साल में ये ऑफर का महीना आया है


. आसमान पर नया चांद आया है ,

सारा आलम खुशी से जगमगाया है, हो रही है  इफ्तार  की तैयारी, सज रही है दुआओं की सवारी, पूरे हो आपके हर दिल के अरमान, मुबारक हो आप सबको प्यारा रमजान।  रमजान मुबारक !


खुशिया नसीब हो जन्नत क़रीब हो,
तू चाहे जिसे वो तेरे क़रीब हो,
कुछ इस तरह हो करम अल्लाह का,
मक्का और मदीना की तुझे ज़ियारत नसीब हो…
ईद मुबारक हो फ्रेंड


रामादान की आमद है
रहमतें बरसाने वाला महीना है
आओ आज सब खताओं की माफ़ी मांग लें
दर-इ-तौरबा खुला है इस महीने में


हटा कर जुल्फें चेहरे से न छत पर शाम को जाना
कहीं कोई ईद न कर ले अभी रमजान बाकी है


ऐ चाँद उनको मेरा पैगाम कहना
खुशी का दिन और हसी की हर शाम कहना
जब वो देखे बहार आकर तो उनको मेरी तरफ से
मुबारक हो रमज़ान कहना 


किसी का ईमान कभी रोशन ना होता ,
आगोश में मुसलमान के अगर कुरान न होता ,
दुनिया ना समझ पाती कभी भूख और प्यास की कीमत ,
अगर 12 महीनों में एक रमजान ना होता।
रमजान मुबारक !


रमज़ान का चाँद देखा,
रोज़े की दुआ मांगी,
रोशन सितारा देखा,
आप की खैरियत की दुआ मांगी,
रामादान मुबारक


हुस्न -ऐ-मुजसिम हो या सांवली सी सूरत
इश्क अगर रूह से हो तो हर रूप बा-कमाल दिखता है


खुशियां नसीब हो और जन्नत करीब हो,
तू चाहे जिसे वो तेरे हमेशा करीब हो,
कुछ इस तरह हो करम अल्लाह का तुझ पर,
मक्का और मदीना की तुझे जारत नसीब हो।
रमजान मुबारक !


र-रोज़ा
अ-आल्हा से डरो
म-मस्जिद जाओ
ज़-जमात में खड़े हो
अ-आमिल करो
न-नमाज़ पढ़ो


तेरी सादगी का हुस्न भी लाजवाब है
मुझे नाज़ है के तू मेरा इंतखाब है


गुल ने गुलशन से गुलफाम भेजा है ,
सितारों ने आसमान से सलाम भेजा है ,
मुबारक हो आपको रमजान का महीना ,
यह पैगाम हमने सिर्फ आपके लिए भेजा है।


सदा हस्ते रहो जैसे हस्ते हैं फूल,
दुनिया की सारे ग़म तुम्हें जाये भूल,
चारो तरफ फैले खुशियों का गीत,
ऐसी उम्मीद का साथ यार तुम्हे


आसमान पे नया चांद है आया
सारा आलम खुशी से जगमगाया
हो रही है सहर-ओ-इफ्तार की तैयारी
सज रही हैं दुवाओं की सवारी
पूरे हों आपके हर दिल के अरमान
मुबारक हो आप सब को प्यारा रमजान


रमजान की आमद है ,
रहमते बरसाने वाला महीना है ,
आओ आज सब गुनाहों की माफी मांग ले ,
दरवाजा खुला है इस महीने में।


रात को नया चाँद मुबारक,
चाँद को चांदनी मुबारक,
फलक को सितारे मुबारक.
और आप को हमारी तरफ से:-
रमदान मुबारक


चांद से रोशन हो रमजान तुम्हारा
इबादत से भरा हो रोजा तुम्हारा
हर रोरा और नमाज़ कबूल हो तुम्हारी
यही अल्लाह से है दुआ हमारी


यह सुबह जितनी खूबसूरत है ,
उतना ही खूबसूरत आपका हर एक पल हो ,
जितनी भी खुशियां आपके पास आज है ,
उससे भी ज्यादा  वह आपके पास कल हो।
रमजान मुबारक !


वक़्त तू परिंदे की तरह है
बीत जायेगागया वक़्त फिर नहीं कभी आएगा
करलो दिल भर कर दुआ रमजान में
 रमजान तू मेहमान है चला जायेगा!


 किसी का ईमान कभी रोशन ना होता
आगोश में मुसलमान के अगर कुरान ना होता
दुनिया ना समझ पाती कभी भूख और प्यास की कीमत
अगर 12 महीनों मे 1 रमजान न होता


खुदा से यही दुआ है हमारी ,
आप सदा हंसते रहो जैसे हंसते हैं फूल ,
दुनिया के सारे गम तुम्हें  जाएं भूल ,
चारों तरफ फैलाओ खुशियों के गीत ,
इसी उम्मीद के साथ यार तुम्हें मुबारक हो रमजान।
रहमतों की बारिश का महीना है दोस्तों ,
यह मेरे  मुल्क तुझको हो रमजान मुबारक


मौसम इ बारिश की अब ज़रुरत नही मेरे शेहेर को
या रब” कह अब तेरी रेह्मत में भीग जाने के
लिए रमजान की बरकतें ही काफी है..


खुशिया नसीब हो जन्नत करीब हो
तू चाहे जिसे वो तेरे करीब हो
कुछ इस तरह हो करम अल्लाह का
मक्का और मदीना की तुझे ज़ियारत नसीब हो


चांद से रोशन हो रमजान तुम्हारा ,
इबादत से भर जाए रोजा तुम्हारा ,
हर नमाज हो कबूल आपकी ,
बस यही दुआ है खुदा से हमारी


गुल ने गुलशन से गुल फाम भेजा है,
सितारों ने आस्मां से सलाम भेजा है,
मुबारक हो आपको रमदान का महीना,
ये पैग़ाम हमनें सिर्फ आपको भेजा है.


चुपके से चांद की रोशनी छू जाए आपको
धीरे से ये हवा कुछ कह जाए आपको
दिल से जो चाहते हो मांग लो खुदा से
हम दुआ करते है मिल जाए वो आपको


सदा हंसते रहो जैसे हंसते हैं फूल ,
दुनिया के सारे गम तुम्हें जाएं भूल ,
चारों  तरफ फैले  खुशियों का गीत ,
ऐसी उम्मीद के साथ यार तुम्हें।


बरकतों का मौसम है खुदा से कर लो दुआएं,
होगा जरूर वो परवरदिगार भी आप पर मेहरबान,
मंजूर हो आपकी हर अर्ज, उस दाता के दरबार में
और हो मुबारक आपके लिए ये रमजान!


हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की
और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की
शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुद से है
क्या ज़रुरत थी तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की


रात को नया चांद मुबारक ,
चांद को चांदनी मुबारक ,
फलक को सितारे मुबारक ,
सितारों को बुलंदी मुबारक ,
और आप को हमारी तरफ से।


हम आप की याद मे उदास हैं,
बस आप से मिलने की आस है,
चाहे दोस्त कितने ही क्यों ना हो,
मेरे लिए तो आप ही सब से खास हैं तुझको हो रमजान मुबारक


दुपट्टा क्या रख लिया सिर पर
वो दुल्हन सी नज़र आने लगी
उनकी तो अदा होगी
अपनी जान जाने लगी!!रमजान मुबारक


. कितनी जल्दी से अरमान गुजर जाता है ,
प्यास लगती नहीं  इफ्तार  गुजर जाता है ,
हम गुनाहों की मगफिरत कर मेरे अल्लाह ,
इबादत होती नहीं और रमजान गुजर जाता है।
रमजान मुबारक !


चाँद से रोशन हो रमजान तुम्हारा,
इबादत से भर जाये रोज़ा तुम्हारा,
हर नमाज़ हो क़ुबूल आपकी,
बस यही दुआ हैं खुदा से हमारा.
रमजान मुबारक.


जिगर से दिल को आबाद करना ,
गुनाहों से खुद को पाक करना ,
हमारी बस इतनी सी गुजारिश है कि ,
रमजान के महीने में हमें अपनी दुआओं में याद रखना।


Happy Ramadan Mubarak SMS in Hindi 2019

खुशिया नसीब हो जन्नत क़रीब हो,
तू चाहे जिसे वो तेरे क़रीब हो,
कुछ इस तरह हो करम अल्लाह का,
मक्का और मदीना की तुझे ज़ियारत नसीब हो


वो शायरी की ठंडक ,
एक प्रकार की रौनक ,
वो आसमान के लोगों को तारों की चमक ,
वो मस्जिदों का सवरना मीनारों का चमकाना ,
वो मुसलमानों की धूम ,
वो रास्तों का हुजूम जी हां रमजान मुबारक।


मुबारक हो आपको खुदा की दी यह जिंदगी,
खुशियों से भरी रहे आपकी यह जिंदगी,
गम का साया कभी आप पर ना आए,
दुआ है यह हमारी आप सदा यूं ही मुस्कुराएं रमजान मुबारक


ए चांद उनको मेरे पैगाम कहना ,
खुशी का दिन और हंसी की धाम कहना ,
जब वह दिखे बाहर आकर तो उनको मेरी तरफ से।


जिस ने बना दिया हर घर को  गुलिस्तां ,
चला जा जो कुछ दिनों में आए मेहमान ,
तोफे मैं यह दिए जा रहा है ईद सबको ,
अलविदा अलविदा  माहे रमजान।


ये सुबह जितनी खूबसूरत है,
उतना ही खूबसूरत आपका हर एक पल हो,
जितनी भी खुशियां आपके पास आज हैं,
उससे भी ज्यादा वो आपके पास कल हों रमजान मुबारक!


आज के दिन क्या घटा छाई है ,
चारों ओर खुशियों की फिजा छाई है ,
हर कोई कर रहा है सजदा खुदा को ,
तुम भी कर लो बंदगी आज ईद आई है।  ईद मुबारक !


ए चाँद, तू उनको मेरा पैगाम कह देना,
ख़ुशी का दिन और हँसी की शाम देना,
जब वो देखे तुझे बाहर आकर,
उनको मेरी तरफ से ईद मुबारक कह देना…


ए चांद तू उनको मेरा पैगाम कह देना ,
खुशी का दिन और हंसी के शाम देना ,
जब बो देखे तुझे बाहर आकर ,
तो  उनको मेरी तरफ से रमजान मुबारक कह देना


जिंदगी का हर पल खुशियों से कम ना हो ,
आपको हर दिन ईद के दिन काम ना हो,
ऐसा ईद का दिन आपको हमेशा नसीब हो ,
जिसमें क्यों देखें क्यों गम  पास ना हो। ईद  मुबारक !


दोस्ताना कम से कम इतना
बरकरार रखो कि,
मजहब बीच में न आये..
कभी तुम उसे मंदिर तक छोड दो,
कभी वो तुम्हे मस्जिद छोड आये


हर एक से अच्छी बात करना फितरत है हमारी ,
हर एक खुशी रहे य हसरत है हमारी ,
कोई हमको याद करें या ना करें ,
हर एक को याद करना आदत है हमारी।


किसी का ईमान कभी रोशन न होता,
आगोश में मुसलमान के अगर क़ुरान न होता,
दुनिया न समझ पाती कभी भूक और प्यास की कीमत,
अगर 12 महीनों मे 1 रमजान न होता…


सुहानी धूप बरसात के बाद ,
थोड़ी सी हंसी हर बात के बाद ,
उसी तरह हो मुबारक आपको ,


सदा हँसते रहो जैसे हँसते हैं फूल
दुनिया के सारे ग़म तुम्हें जाए भूल
चारो तरफ फैलाओं खुशियों के गीत
इसी उम्मीद के साथ मुबारक हो तुम्हें रमज़ान

रमजान मुबारक हो. 

 

दोस्तों आपको Happy Ramadan Mubarak Shayari & SMS कैसी लगी ,हमे Comment करके जरूर बताना। HindiDream.Com की तरफ से आपको रमजान की ढेरों ढेरों मुबारक। THANK YOU

About the author

Asif Khan

Hey, My Name is Asif Khan i'm Blogger by Choice. I write about Health, Fitness, Internet and Tech.

Leave a Comment