ईश्वर को न कोसें (Never Complain to God)

ईश्वर को न कोसें (Never Complain to God)

Image result for never complain to god images

एक फैक्ट्री में बहुत हुनरमंद लड़का काम करता था| उसकी ईमानदारी और मेहनत का चर्चा हर शख्स किया करता था | फैक्ट्री का मालिक भी उस नौजवान से बहुत खुश था की अपना काम तवज्जोह से करता है और कभी भी एडवांस नहीं मांगता और बस अपना  काम करत है और चला जाता है|

इसे भी पढ़े- बड़ा बनने से कोई नहीं रोक सकता-Inspiring Story 

एक दिन क्या हुआ दोस्तों उसी नौजवान ने बिना बताये फैक्ट्री से छुट्टी कर ली,तमाम स्टाफ परेशान था की इसने तो कभी छुट्टी नहीं की थी और आज बिना बताये ही गायब हो गया है |एक दिन अपने काम से गैरहाज़िर रहने के बाद जब वो नौजवान काम पर वापिस आया तो फैक्ट्री के मालिक ने अपने पास बुलवाया और कहा की मैंने सोचा है की आजसे तुम्हारी तनख्वाह दुगना कर दी जाये|

इसे भी पढ़े-ये 2 Motivational Stories in hindi बदल देंगी आपकी ज़िंदगी 

फैक्ट्री के मालिक ने कहा की इस पर काम का बोझ बहुत ज्यादा है और मुआवज़ा बहुत कम है शायद इसलिए यह मुश्किलात का शिकार है | तनख्वाह के बढ़ने पर भी उस नौजवान के चेहरे पर कोई भी ख़ुशी नहीं थी और उन फैक्ट्री के मालिक का  शुक्रिया भी अदा नहीं किया | खैर दिन गुजरते रहे काम अच्छा चल रहा था फिर उस नौजवान ने बिना बताये फिर छुट्टी मार ली |

वह नौजवान कई दिनों तक काम पर वापस नहीं आया,उस नौजवान की इस हरकत पर फैक्ट्री के मालिक को बहुत गुस्सा आया | और एक दिन नौजवान वापस काम पर आया तो,फैक्ट्री के मालिक ने गुस्से से उससे कहा की अब अगर काम करना है तो वापस पहली तनख्वाह पर काम मिलेगा | मालिक की यह बात सुनकर उस नौजवान पर कोई फर्क न पड़ा और चुपचाप काम करने लगा|

 इसे भी पढ़ें-अरुणिमा सिन्हा की प्रेरणादायक कहानी 

फैक्ट्री के मालिक बहुत हैरत हुई,जब पैसा  बढ़ाया तब भी इसे कोई ख़ुशी न हुई और यह चुपचाप काम करता रहा और अब पैसा घटाया है तो तब भी इसे कोई दुःख नहीं हुआ और यह ख़ामोशी से अपना काम करने  लगा है| ये सब बातें सोचकर फैक्ट्री के मालिक ने उस नौजवान को अपने ऑफिस में बुलवाया और उससे कहा एक बात बताओ “जब मैंने तनख्वाह दुगना कर दी थी तब भी तुम खुश नहीं हुए और न ही मेरा शुक्रिया अदा  किया और अब मैंने तुम्हारी तनख्वाह को फिर से आधा कर दिया है,तब तुम सफाई देने की बजाए ख़ामोशी से काम करने लगे हो”,आखिर वजह क्या है ?

इसे भी पढ़े-लाल जूते कहानी 

उस नौजवान ने कहा! सर पहली बार जब मैं नहीं आया था उस दिन मेरे घर में बच्चा पैदा हुआ था,आपने मेर तनख्वाह बढ़ाई,मुझे लगा अल्लाह  ने मेरे बच्चे का हिस्सा मुझे दिया है,तो मै इस बातपर बहुत ज्यादा खुश नहीं हुआ | 

 दूसरी बार जब  नहीं आया था तब मेरी वालिदा का इन्तेकाल हो गया था| आपने जब मेरी तनख्वाह घटाई तो मुझे  लगा मेरी माँ का हिस्सा,मेरी माँ अपने साथ ही ले गयी है| तो मै  घटे हुए पैसों के लिए परेशान क्यों होता | 

 इसे भी पढ़े-माँ पर अनमोल वचन 

यह सब बाते सुनकर उस फैक्ट्री के मालिक की आँखों में आंसू आ  गए और आगे बढ़कर उसने उस नौजवान को गले से लगा लिया | ज़िंदगी हर कदम एक मुकाबले का नाम है दोस्तों,इस नौजवान को देखिये जिसपर जब अच्छा वक्त आया तब भी वो ख़ुशी में पागल नहीं हुआ और जब बुरा  वक्त आया तब भी उसने अल्लाह  कोई शिकायत नहीं की | अच्छा और बुरा वक्त जीवन का हिस्सा है मगर कामयाब वही लोग होते है जो अच्छे वक्त में अपनी औकात याद रखते हैं और बुरे वक्त में मेहनत पर यकीन रखते हैं | 

दोस्तों अगर आपको यह कहानी पसंद आयी हो तो हमें comment  जरूर बताइये |

About the author

Asif Khan

Hey, My Name is Asif Khan i'm Blogger by Choice. I write about Health, Fitness, Internet and Tech.

Leave a Comment