माँ पर अनमोल वचन

“माँ” एक ऐसा शब्द है जिसे दुनिया का हर बच्चा अपने मुंह से इस दुनिया में आने के बाद सबसे पहले लेता है| पिता जी और माता जी इस दुनिया में भगवान के वो रूप हैं जो बिना किसी स्वार्थ के हमें पालते है, पढ़ाते लिखाते है, स्कूल कॉलेज भेजते है और हमेशा भगवान से यही मांगते हैं की हमारा बच्चे पर कोई आंच न आये और उसे हर कामयाबी मिले|

इसलिए दोस्तों आज हम आप सभी आपके लिए माँ के ऊपर कुछ अनमोल कथन लाये हैं,माँ के बिना जीवन की उम्मीद नहीं की जा सकती अगर माँ न होती तो हमारा अस्तित्व ही न होता| इस दुनिया में माँ दुनिया का सबसे आसान शब्द है मगर इस नाम में भगवान खुद वास करते है|

इस दुनिया में माँ होती है जो 9 महीने ज्यादा जानती है !!

पूछा था मैंने खुदा से……जन्नत का पता,अपनी गोद से उतारकर खुदा ने,माँ की बाँहों में सुला दिया !!

खुदा की जन्नत को दुनिया में देखना चाहते हो तो,सिर्फ एक बार माँ की गोद में सर रख देना !!

मई रात भर जन्नत की सैर करता रहा यारो….सुबह आंख खुली तो देखा सर माँ के कदमों में था | 

जिसको बसना है जन्नत में,वो बेशक जाकर बसे…..अपना तो आशियाना माँ के दिल में है !!

फुरसत मिले तो कभी माँ का हाल  भी पूछ लिया करो दोस्तों,क्योंकि उनके सीने में दिल की जगह तुम रहते हो | 

माँ जब भी दुआएं मेरे नाम करती है,रस्ते की ठोकरें मुझे सलाम करती हैं !!

लेता ही रहा दुआए,झोली भर भर कर मैं,माँ का ही आँचल था जो कभी खली नहीं हुआ | 

मुश्किल सी राहों में आसान सा सफर लगता है,शायद ये मेरी माँ की दुआओं का असर लगता है | 

आज लाखों रुपये बेकार हैं,वो एक रूपये के सामने,जो माँ स्कूल जाते वक्त देती थी !!

हमे तो सुख में साथी चाहिए,दुःख में तो हमारी माँ ही अकेली काफी है | 

वो भी वक्त था जो हमारी सारी गलतियां,माँ के तमाचों में सुधर जाती हैं !!

गिन लेती है दिन….बगैर मेरे गुज़ारे हैं कितने,भला कैसे कह दूँ…..माँ अनपढ़ हैं मेरी| 

ऊपर जिसका अंत नहीं,उसे आसमां कहते है| जहाँ में जिसका अंत नहीं उसे माँ कहते हैं | 

माँ  पर  हिंदी में सुविचार

आपको पता हैं, प्रेम अंधा क्‍यों होता है?
क्‍योंकि आपकी माता ने आपका चेहरा देखने से
पहले ही आपको प्रेम करना शुरू कर दिया था!!

सारी दुनिया छोटी पड़ जाती है
लेकिन भगवान का घर और माँ का
आंचल कभी छोटा नहीं पड़ता!

जिस घर में माँ की कद्र नहीं होती है,
उस घर में कभी बरकत नहीं होती है!

इस दुनियॉं में बिना स्‍वार्थ के
सिर्फ माता-पिता ही प्‍यार कर सकते हैं!

जिस घर में माँ होती हैं, वहाँ सब कुछ सही रहता हैं.

माँ की ममता से बड़ा दुनिया में कुछ भी नही हैं.

इंसान वो हैं जो उसे उसकी माँ ने बनाया हैं.

तूने रूला के रख दिया ए-जिन्दगी, जाकर पूछ मेरी “माँ” से कितने लाडले थे हम…!!!

कौन कहता हैं कि फ़रिश्ते स्वर्ग में रहते हैं, कभी अपनी “माँ” को गौर से देखा हैं.

जब एक रोटी के चार टुकड़े हो और खाने वाले पाँच…तब मुझे भूख नही हैं ऐसा कहने वाली हैं – “माँ”…

उम्मीद है दोस्तों की आपको ये कथन और ये आर्टिकल्स पसंद आये होंगे आप हमे comment के द्वारा बता सकते है की आपको अपनी माँ से कितना प्यार है और उनको लेकर आप क्या मह्सूस करते हैं | उनकी जिंदगी आप क्या क्या देखना चाहते है ? आपके comment का इंतज़ार रहेगा plzzz हमे बताइये जरूर |

About the author

Asif Khan

Hey, My Name is Asif Khan i'm Blogger by Choice. I write about Health, Fitness, Internet and Tech.

Leave a Comment