Mohabbat Shayari in Hindi

Hello दोस्तों आज हम आपके लिए यानी अपने प्रिय पाठकों के लिए इस Mohabbat Shayari in Hindi पेज पर बहुत ही प्यार भरी शायरी लेकर आय हैं. आप इस मोहब्बत की शायरी  को अपने फेसबुक वाले और व्हाट्सएप्प ग्रुप में शेयर कर सकतें हैं और अपने जज़्बात उन तक आसानी से पहुंचा सकतें हैं जिन से आप प्यार करतें हैं। Hindidream.Com

Mohabbat Shayari in Hindi for Love

Image result for muhabbat shayari in hindi

Mohabbat Bhari Shayari for Girlfriend & Boyfriend in Hindi 2019 

बस रिश्ता ही तो टूटा है
मोहब्बत तो आज भी हमे उनसे ही है!!


लम्हों का ये इश्क़ नहीं ,,_**_सदियों की ये मोहब्बत है ,,कैसे करें शिक़ायत तुझे ,,_**_हर साँस को तेरी चाहत है!!


दीवारो पर बस एक नाम लिखा था मुहब्बत….!
बारिश की बूंदों ने उसे चूम चूम के मिटा दिया…!!


सुना था.. मोहब्बत मिलती है, मोहब्बत के बदले
हमारी बारी आई तो, रिवाज हि बदल गया!!


हर मोहब्बत की अजब कहानी है, खामोश रहना भी प्यार की निशानी है, दूरिया हैं

दरमियाँ फिर भी क्यू ये एहसास है, लगता है आज भी वो दिल के पास है!!


उसके साथ रहते रहते हमे चाहत सी हो गयी,
उससे बात करते करते हमे आदत सी हो गयी,
एक पल भी न मिले तो न जाने बेचैनी सी रहती है,
दोस्ती निभाते निभाते हमे मोहब्बत सी हो!!


मैं ख़ामोशी तेरे मन की, तू अनकहा अलफ़ाज़ मेरा
मैं एक उलझा लम्हा, तू रूठा हुआ हालात मेरा!!


मुस्कुराने से शुरु और रुलाने पे खतम..
ये वो ज़ुल्म है जिस्से लोग मुहब्बत कहते है .!!


सूखी पड़ी है दिल की ज़मीं मुद्दतों से यार,
बनके घटाएं प्यार की बरसात कीजिये।
एक बार अकेले में मुलाकात कीजिये!!


बेवफा कहने से पहले मेरी रग रग का खून निचोड़ लेना
कतरे कतरे से वफ़ा ना मिले तो बेशक मुझे छोड़ देना!!


तेरी मोहब्बत से लेकर तेरे अलविदा कहने तक,
मेंने सिर्फ तुझे चाहा है, तुझसे कुछ नहीं चाहा !!


हिलने ना पाए होंठ और कह जाए बहुत कुछ,
आँखों में आँखें डाल कर हर बात कीजिये।
एक बार अकेले में मुलाकात कीजिये!!


सौदा कुछ ऐसा किया है तेरे ख़्वाबों ने मेरी नींदों से..,
या तो दोनों आते हैं, या कोई नहीं आता.!!


उस शख्स को पाना, इतना मुश्किल भी नही, मेरे दोस्त..
मगर जब तक दूरी न हो, मुहब्बत का मजा नही आता!!


दिन में ही मिले रोज हम देखे न कोई और,
सुरज पे ज़ुल्फ़ें डाल कर फिर रात कीजिये।
एक बार अकेले में मुलाकात कीजिये!!


प्यार मोहब्बत चाहत इश्क़ जिन्दगी उल्फ़त
एक तेरे आने से कितना बदल गई किस्मत!!


ना तोल मेरी मोहब्बत अपनी दिल्लगी से,
देख कर मेरी चाहत को अक्सर तराजू टूट जाते हैं !!


एक ज़रा सी भूल खता बन गयी,
मेरी वफ़ा ही मेरी सजा बन गयी,
दिल लिया और खेल कर तोड़ दिया उसने,
हमारी जान गयी और उनकी अदा बन गयी!!


जब नफ़रत करते करते थक जाओ
तो एक मौका प्यार को भी दे देना!!


बरबाद कर देती है मोहब्बत हर मोहब्बत करने वाले को क्यू कि
इश्क़ हार नही मानता, और दिल बात नही मानता !!


आईंना और दिल वैसे तो बडे नाजुक होते हैं ,
लेकिन ,
आईने में तो सभी दिखते हैं और दिल में सिर्फ अपने दिखते हैं!!


ठहर सके जो.. लबों पे हमारे
हँसी के सिवा, है मजाल किसकी!!


खुशबू कैसे ना आये मेरी बातों से यारों,
मैंने बरसों से एक ही फूल से मोहब्बत की है!!


Best Pyaar Bhari Shayari on Mohhabat in hindi 2019 

दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया!!


तुम पल भर के लिए दूर क्या जाते हो
तो हम ‘बिखरने’ से लगते हैं!!


किसी पर मर जाने से शुरु होती है मोहब्बत,
इश्क जिन्दा लोगों का काम नही!!


सोचा था इस कदर उनको भूल जायेंगे..
देखकर भी अनदेखा कर जायेंगे..
पर,,, जब जब सामने आया चेहरा..
सोचा इस बार देख ले.अगली बार भूल जायेंगे!!


जादू वो लफ़्ज़-लफ़्ज़ से करता चला गया
और हमने बात-बात में हर बात मान ली!!


दिल में मोहब्बत का होना जरूरी है..
वर्ना,याद तो रोज दुश्मन भी किया करते है !!


गलती उनकी नही कसूरवार मेरी गरीबी थी दोस्तों
हम अपनी औकात भूलकर बड़े लोगों से दिल लगा बैठे!!


मुझे क़बूल है.. हर दर्द.. हर तकलीफ़ तेरी चाहत में
सिर्फ़ इतना बता दो.. क्या तुम्हें मेरी मोहब्बत क़बूल है!!


राख से भी आयेगी खुशबू मोहब्बत की;
मेरे ख़त को तुम यूँ सरेआम जलाया न करो !!


दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया!!


दुनिया खरीद लेगी हर मोड़ पर तुझे
तूने जमीर बेचकर अच्छा नहीं किया!!


मोहब्बत क्या है चलो दो लफ्ज़ो में बताते है ;
तेरा मजबूर कर देना मेरा मजबूर हो जाना!!


हम रूठे भी तो किसके भरोसे रूठें,
कौन है जो आयेगा हमें मनाने के लिए,
हो सकता है तरस आ भी जाये आपको,
पर दिल कहाँ से लायें आपसे रूठ जाने के लिये!!


मैं खुद भी अपने लिए अजनबी हूं
मुझे गैर कहने वाले.. तेरी बात मे दम है!!


कुछ खास नही बस इतनी सी है मोहब्बत मेरी .. !!

हर रात का आखरी खयाल और हर सुबह की पहली सोच हो तुम..,!!


इस प्यार का अंदाज़ कुछ ऐसा है,
क्या बताये ये राज़ कैसा है,
कौन कहता है कि आप चाँद जैसे हो,
सच तो ये है कि खुद चाँद आप जैसा है!!


कभी आपको याद आई कभी हमने याद किया
खैर छोड़ो ये बेकार सियासत चलो आओ बात करें!!


कहना ही पड़ा उसे शायरी पढ़ कर हमारी
कमबख्त की हर बात मोहब्बत से भरी है.!!


हो सकता है हमने आपको कभी रुला दिया,
आपने तो दुनिया के कहने पे हमें भुला दिया,
हम तो वैसे भी अकेले थे इस दुनिया में,
क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया!!


ज़िन्दगी में कई ऐसे लोग भी मिलते हैं
जिन्हें हम पा नहीं सकते सिर्फ चाह सकते हैं!!


धमकियाँ देते हो जुदाई की…
उफ्फ… मुहोब्बत में बदमाशियाँ!!


वो शख्स जो झुकर तुमसे मिला हो
यक़ीनन उसका कद तुमसे बड़ा ही होगा!!


सच के रास्ते पे चलने का.. ये फ़ायदा हुआ
रास्ते में कहीं भीड़ नहीं थी !!


झूठ कहते हैं लोग कि मोहब्बत सब कुछ छीन लेती है,..
मैंने तो मोहब्बत करके, ग़म का खजाना पा लिया !!


हो सकता है हमने आपको कभी रुला दिया,
आपने तो दुनिया के कहने पे हमें भुला दिया,
हम तो वैसे भी अकेले थे इस दुनिया में,
क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया!!


नज़रों से दूर सही दिल के बहुत पास है तू
बिखरी हुई इस ज़िन्दगी में मेरे जीने की आस है तू!!


सुनो…..बेपन्हा मोहोब्बत हे तुमसे…. .
अब तुम पास हो या दूर.. क्या फर्क पढ़ता हैं!!


वो इत्र की शीशियां वेवज़ह इतराती हैं खुद पे,
मैं तो तेरे ख़्यालों से ही महक जाता हूं.!!


वो मेरी हर दुआ में शामिल था
जो किसी और को बिन मांगे मिल गया !!


ए मोहब्बत, तुझे पाने की कोई राह नहीं….
तू तो उसे ही मिलेगी, जिसे तेरी परवाह नहीं!!


तुम थोड़ी सी ‪#‎फुलझड़ी‬ क्या हुई
पूरा मौहल्ला ही ‪#‎माचिस‬ हो गया!!


नामुमकिन ही सही मगर…
मोहब्बत ‘तुझ’ ही से है…!!


सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है तुमसे
लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे!!


तैरना तो आता था हमे मोहब्बत के समंदर मे लेकिन…
जब उसने हाथ ही नही पकड़ा तो डूब
जाना अच्छा लगा…!!


कोन कहता है सिर्फ नफरतो में ही दर्द है
कभी कभी बेपनाह मोहब्बत भी बहुत दर्द देता है !!


दिल में मोहब्बत, काले धन की तरह
छुपा रक्खी है…
खुलासा नहीं करते,
कि कहीं हंगामा न मच जाये…!!


हर घडी एक नाम याद आता है
कभी सुबह कभी शाम याद आता है
सोचते है की कर ले फिर से मोहब्बत
फिर हमे मोहब्बत का अंजाम याद आता है !!


सिमट गया मेरा प्यार भी चंद अल्फाजों में,
जब उसने कहा मोहब्बत तो है पर तुमसे नहीं!!


तमाम नीदें गिरवी है हमारी उसके पास
जिससे जरा सी मोहब्बत की थी !!


लोग इन्सान देखकर मोहब्बत करते हैं,
मैने मोहब्बत करके इन्सानों को देख लिया !!


सुना है आज उनके आँखों में आँसू आगये
बच्चो को सिखा रहे थे मोहब्बत ऐसे करते है!!


जानते हो मुहब्बत किसे कहते है..?
किसी को सोचना,
फ़िर मुस्कुराना और फ़िर आँसू बहाते हुए सो जाना…!!


चाहो तो छोड़ दो चाहो तो निभा लो
मोहब्बत तो हमारी है पर मर्ज़ी सिर्फ तुम्हारी है !!


ये झूठ है… के मुहब्बत किसी का दिल तोड़ती है,
लोग खुद ही टुट जाते है,,,, मुहब्बत करते-करते….!!


जो आप से सच्ची मोहब्बत करेगा
वो आप की आप से ज्यादा करेगा !!


तुमने तो फिर भी सीख लिए दुनिया के चाल चलन…
हम तो कुछ भी ना कर सके बस मुहब्बत के सिवा !!


सच्चा प्यार चाहे दो पल के लिए ही हो
मगर अहसास ज़िन्दगी भर के लिए दे जाता है !!


kabhii kabhii mere dil me.n, khayaal aataa hai

कभी कभी मेरे दिल में, ख़याल आता है

के जैसे तुझको बनाया गया है मेरे लिये

तू अबसे पहले सितारों में बस रही थी

कहीं तुझे ज़मीं पे बुलाया गया है मेरे लिये

कभी कभी मेरे दिल में, ख़याल आता है.

कभी कभी मेरे दिल मैं ख्याल आता हैं
कि ज़िंदगी तेरी जुल्फों कि नर्म छांव मैं गुजरने पाती
तो शादाब हो भी सकती थी

यह रंज-ओ-ग़म कि सियाही जो दिल पे छाई हैं
तेरी नज़र कि शुओं मैं खो भी सकती थी

मगर यह हो न सका और अब ये आलम हैं
कि तू नहीं, तेरा ग़म तेरी जुस्तजू भी नहीं

गुज़र रही हैं कुछ इस तरह ज़िंदगी जैसे,
इससे किसी के सहारे कि आरझु भी नहीं

न कोई राह, न मंजिल, न रौशनी का सुराग
भटक रहीं है अंधेरों मैं ज़िंदगी मेरी

इन्ही अंधेरों मैं रह जाऊँगा कभी खो कर
मैं जानता हूँ मेरी हम-नफस, मगर यूंही

कभी कभी मेरे दिल मैं ख्याल आता है .

 

दोस्तों हमे Comment करके जरूर बताएं आपको हमारी Post Mohabbat Shayari in Hindi कैसी लगी।

About the author

Asif Khan

Hey, My Name is Asif Khan i'm Blogger by Choice. I write about Health, Fitness, Internet and Tech.

Leave a Comment