प्यार का इज़हार कैसे करे (शायरी)

प्यार का इज़हार वाली शायरी

आप इस इज़हार  हिंदी शायरी को अपने हिंदी वाहट्सएप्प स्टेटस के रूप में उपयोग कर सकतें है या आप इस बेहतरीन हिंदी शायरी को अपने दोस्तों को फेसबुक पर भी भेज सकतें हैं। इज़हार लफ्ज़ पर हिंदी के यह शेर, आपके प्यार और भावनाओं को व्यक्त करने में आपकी मदद कर सकतें हैं।

Image result for pyar ka izhaar shayari

1 #

कमी है बहुत मुझमे,
जे हम जानते है,
किसी और की नहीं बस अपने दिल की,
मानते है,

2 #

एक वक़्त था की इज़हार -ऐ-मोहब्बत के हमें शब्द नहीं मिलते थे मेहरबानी तेरी बेवफ़ाई की हमको शायर बना दिया..

3 #

जीत की खातिर बस जुनून चाहिए
जिसमे उबाल हो ऐसा खून चाहिए
यह आसमान भी आएगा जमीन पर
बस इरादों मे जीत की गूँज चाहिए

4 #

अच्छा करते है वो लोग जो मोहब्बत का इज़हार नहीं करते

ख़ामुशी से मर जाते है मगर किसी को बदनाम नहीं करते !!

5 #

जो कभी ना बोला
आज  वो बात कहता हूँ,
आज  में इकरार करता हूँ,
में तुमसे प्यार करता हूँ,

6 #

अच्छा करते हैं वो लोग जो मोहब्बत का इज़हार  नहीं करते, ख़ामोशी से मर जाते हैं मगर किसी को बदनाम नहीं करते…

7 #

कभी वादे के नाम पर
कभी सौदे के नाम पर
हम बेचे जाते हैं आज भी
मोहब्बत के नाम पर

8 #

मैं अपनी मुहब्बत का शिकवा तुमसे कैसे करुं,

मुहब्बत तो हमने की हैं तुम तो बेकसूर हो !!

9 #

दिल की बात लबों पे
आ कर रुक जाती है,
हम तुम से प्यार करते है,
जे बात जुबान में आकर रुक जाती है,

10 #

भीगते बारिश के इस मौसम में कुछ ऐसे उनका दीदार हुआ, एक पल में उनसे महोब्बत हुई ज़िन्दगी भर उसका इज़हार हुआ

11 #

आप होते जो मेरे साथ तो कैसा होता
बात बन जाती अगर बात तो कैसा होता
सबने माँगा है मुझसे मुहब्बत का जवाब
आप करते जो सवालात तो कैसा होता

12 #

बेशक तू बदल ले अपनी मौहब्बत लेकिन ये याद रखना !

तेरे हर झूठ को सच मेरे सिवा कोई नही समझ सकता !!

13 #

तेरी सुरत पे नहीं,
तेरी अदाओं पे फ़िदा हूँ,
में आज से नहीं,
पहली मुलाकात से तुमसे प्यार करता हूँ,

14 #

कर दिया “हमनें” भीं “इज़हार-ए-मोहब्बत” फोन पर______लाख” रूपये की बात थी, “एक” रूपये में हो गयी।

15 #

वो मुझ तक आने की राह चाहता है
लेकिन मेरी मोहब्बत का गवाह चाहता है
खुद आते जाते मौसमो की तरहा है
और मेरे इश्क़ की इंतेहः चाहता है

16 #

जिस्म से होने वाली मुहब्बत का इज़हार आसान होता है !

रुह से हुई मुहब्बत को समझाने में ज़िन्दगी गुज़र जाती है !!

17 #

बचपन की दोस्ती,
कब महोबत में बदल गई,
जे बात हमें आज तक
समाज में न आई

18 #

मुहब्बत का कभी इज़हार करना ही नहीं आया, मेरी कश्ती को दरिया पार करना ही नहीं आया|

19 #

वो करीब ही ना आये इज़हार क्या करते
खुद बने निशाना तो शिकार काया करते
मर गए हम पर खुली रही आँखे
इससे ज्यादा किसी का इन्तजार क्या करते

20 #

मेरी शायरी मेरे तजुरबो का इज़हार है, और कुछ भी नहीं…!! . . सोचता हूँ की कोई तो संभल जाएगा, मुझे पढने के बाद…!!

21 #

तेरी आँखो का इज़हार मै पढ़ सकता हूँ पगली किसी को अलविदा युँ मुस्कुराकर नहीं कहते| 

22 #

उन को चाहना मेरी मोहब्बत है ,उन्हें कह न पाना मेरी मजबूरी है
वो खुद क्यों नही समझता मेरे दिल की बात को
क्या प्यार का इज़हार करना ज़रूरी है|

23 #

दिल यह मेरा तुमसे प्यार करना चाहता हैं

अपनी मोहब्बत का इज़हार करना चाहता है
देखा हैं जब से तुम्हे ऐ मेरे हमदम
सिर्फ तुम्हारा ही दीदार करना चाहता है
24 #
हमने हमारे इश्क़ का, इज़हार यूँ किया… फूलों से तेरा नाम, पत्थरों पे लिख दिया…!!!
25 #

दिल की आवाज़ को इज़हार कहते है, झुकी निगाह को इकरार कहते है, सिर्फ पाने का नाम इश्क नहीं, कुछ खोने को भी प्यार कहते है..

26 #

हज़ारों दफा कर दिया है इज़हार ए इश्क इन आँखों नें.. तुम वाकई नहीं समझे या बस यूँ ही अनजान बने बैठे हो

27 #

हर घडी तेरा दीदार किया करते हैं

हर ख्वाब में तुझसे इज़हार किया करते हैं
दीवाने हैं तेरे हम यह इक़रार करते हैं
जो हर वक़्त तुझसे मिलने की दुआ किया करते हैं
28 #
उन्हे इज़हार करना नही आया उन्हे हमे प्यार करना नही आया हम बस देखते ही रह गये और वक़्त को थमना नही आया वो चलते चलते इतने दूर चले गये हमे रोकना भी नही आया !!!
29 #
बड़ी मुश्किल में हूँ कैसे इज़हार करूँ;
वो तो खुशबु है उसे कैसे गिरफ्तार करूँ;
उसकी मोहब्बत पर मेरा हक़ नहीं लेकिन;
दिल करता है आखिरी सांस तक उसका इंतज़ार करूँ।
30 #

ग़म का इज़हार भी करने नहीं देती दुनिया
और मरता हूँ तो मरने नहीं देती दुनिया

सब ही मय-ख़ाना-ए-हस्ती से पिया करत हैं
मुझ को इक जाम भी भरने नहीं देती दुनिया

About the author

Asif Khan

Hey, My Name is Asif Khan i'm Blogger by Choice. I write about Health, Fitness, Internet and Tech.

Leave a Comment