Sad Shayari in Hindi

Sad Shayari in Hindi

 

 

Image result for sad shayari images in hd

 

सोचा था तड़पायेंगे हम उन्हें,
किसी और का नाम लेके जलायेगें उन्हें,
फिर सोचा मैंने उन्हें तड़पाके दर्द मुझको ही होगा,
तो फिर भला किस तरह सताए हम उन्हें

😒

ताज्जुब है तेरी गहरी मुहब्बत पर,
तू हमारी रूह में, और हम तेरे वहम ओ गुमान में भी नही.

😔

कहीं किसी रोज़ यूँ भी होता,
जो हमारी हालत है वो तुम्हारी होती,
जो रात हमने गुजारी तड़प कर,
वो रात तुमने भी गुजारी होती।

😔

दिन हुआ है, तो रात भी होगी,
मत हो उदास, उससे कभी बात भी होगी।
वो प्यार है ही इतना प्यारा,
ज़िंदगी रही तो मुलाकात भी होगी।

😣

समजने समजाने मे ही गुजर गई तू,
ए जिन्दगी तूजे एकबार भी जी न पाए हम

😣

शेरो-शायरी तो दिल बहलाने का ज़रिया है साहब,
लफ़्ज़ कागज पर उतारने से महबूब नहीं लौटा करते

😔

वो बिछड़ के हमसे ये दूरियां कर गई,
न जाने क्यों ये मोहब्बत अधूरी कर गई,
अब हमे तन्हाइयां चुभती है तो क्या हुआ,
कम से कम उसकी सारी तमन्नाएं तो पूरी हो गई।

😔

 उसे लगता था कि उसकी चालाकियां हमें समझ नहीं आतीं
हम बड़ी खामोशी से देखते थे उसे अपनी नजरों से गिरते हुए।

😒

अजीब तरह से गुजर गयी मेरी भी जिंदगी,
सोचा कुछ, किया कुछ, हुआ कुछ, मिला कुछ।

😣

अजीब तरह से गुजर गयी मेरी भी जिंदगी,
सोचा कुछ, किया कुछ, हुआ कुछ, मिला कुछ।

😞

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता;
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता;
बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में;
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता

🙁

क्यूँ वो रूठे इस कदर कि मनाया ना गया,
दूर इतने हो गए कि पास बुलाया ना गया,
दिल तो दिल था कोई समंदर का साहिल नहीं,
लिख दिया जो नाम वो फिर मिटाया ना गया।

🙁

होले होले कोई याद आया करता है,
कोई मेरी हर साँसों को महकाया करता है,
उस अजनबी का हर पल शुक्रिया अदा करते हैं,
जो इस नाचीज़ को मोहब्बत सिखाया करता है।

😒

लगता है इस बार मुझे मोहब्बत होकर ही रहेगी,
आज रात ख्वाब में मैंने खुद को बरबाद होते देखा है…

😒

 ला तेरे पेरों पर मरहम लगा दूं…
कुछ चोट तो तुझे भी आई होगी मेरे दिल को ठोकर मार कर…!!!

😕

अजीब हाल है
इस अधूरी मोहब्बत में रातों का,
उजाला हो जाता है लेकिन
आँखों से अँधेरा नहीं जाता।

😞

रूठा रहे वो मुझसे ये मंज़ूर है हमें लेकिन,
यारो उसे समझाओ के मेरा शहर न छोड़े…

😐

रूठा रहे वो मुझसे ये मंज़ूर है हमें लेकिन,
यारो उसे समझाओ के मेरा शहर न छोड़े…

😒

ये वक़्त बेवक़्त मेरे ख्यालों में आने की आदत छोड़ दो तुम,
कसूर तुम्हारा होता है और लोग मुझे आवारा समझते हैं..!!

😣

न हाथ थाम सके और न पकड़ सके दामन,
बहुत ही क़रीब से गुज़र कर बिछड़ गया कोई।

😒

ये मुकरने का अंदाज़ मुझे भी सीखा दो
वादे नीभा-नीभा के थक गया हूँ मैं…

😟

लगता है इस बार मुझे मोहब्बत होकर ही रहेगी,
आज रात ख्वाब में मैंने खुद को बरबाद होते देखा है…

🙁

मोहब्बत से इनायत से वफ़ा से चोट लगती है,
बिखरता फूल हूँ मुझको हवा से चोट लगती है,
मेरी आँखों में आँसू की तरह इक रात आ जाओ,
तकल्लुफ़ से बनावट से अदा से चोट लगती है।

😞

ये भी एक तमाशा है इश्क ओ मोहब्बत में
दिल किसी का होता है और बस किसी का चलता है

😔

हुए जिस पे मेहरबाँ तुम कोई खुशनसीब होगा,
मेरी हसरतें तो निकलीं मेरे आंसुओं में ढलकर।

🙁

ये ना पूछ कितनी शिकायतें हैं तुझसे ऐ ज़िन्दगी,
सिर्फ इतना बता की तेरा कोई और सितम बाक़ी तो नहीं.

😒

 तुम ना लगा पाओगे अंदाजा मेरी तबाही का,
तुमने देखा ही कहाँ है मुझको शाम के बाद।

💔

ये जो मेरे दामन पर कजरारे छींटें हैं थोड़े-बहुत
झाँक के देखो,तेरे गिरेबाँ से धूल कुछ उडी लगती है

💔

मोहब्बत में लाखों ज़ख्म खाए हमने,
अफ़सोस उन्हें हम पर ऐतबार नहीं,
मत पूछो क्या गुजरती है दिल पर,
जब वो कहते है हमें तुमसे प्यार नहीं।

💔

 वो अपने फ़ायदे की खातिर फिर आ मिले थे हम से,
हम नादान समझे के हमारी दुआओं में असर बहुत है..

💔

मोहब्बत और मुकद्दर में बरसों से जिद का रिश्ता है,
मोहब्बत जब भी होती है तो मुकद्दर रूठ ही जाता है।

💘

वो अपनी ज़िंदगी में हुआ मशरूफ इतना;
वो किस-किस को भूल गया उसे यह भी याद नहीं।

💔

 असल मोहब्बत तो वो,
पहली ही मोहब्बत थी,
इसके बाद तो हर शख्स में,
सिर्फ उसी को ढूँढा है।

💔

ले रहे थे मोहब्बत के बाज़ार में इश्क की चादर…
लोगो ने आवाज़ दी कफन भी ले लो…

💔

वो चाँदनी का बदन खुशबुओं का साया है,
बहुत अजीज़ हमें है मगर पराया है,
उसे किसी की मोहब्बत का ऐतबार नहीं,
उसे ज़माने ने शायद बहुत सताया है।

💔

वफादार और तुम…?? ख्याल अच्छा है,
बेवफा और हम…?? इल्जाम भी अच्छा है…

💘

अब तुम को भूल जाने की कोशिश करेंगे हम
तुम से भी हो सके तो न आना ख़याल में।

💔

 वादा निभाया ना जाए तो वादा किया ना कर,
इस खेल में वादे नही दिल टूटा करते हैं…

💘

अब क्यूँ तकलीफ होती है तुम्हें इस बेरुखी से,
तुम्हीं ने तो सिखाया है कि दिल कैसे जलाते हैं

💔

लोग कहते है हम मुस्कराते बहुत है…
और हम थक गए दर्द छुपाते छुपाते…

💝

नजर-अंदाज़ करते हो लो हट जाते हैं नजरों से,
इन्हीं नजरों से ढूंढोगे नजर जब हम न आयेंगे।

💔

लम्हों की दौलत से दोनों महरूम रहे ,
मुझे चुराना न आया, तुम्हें कमाना न आया

💘

मेरे हाथों से मेरी तकदीर भी वो ले गया,
आज अपनी आखिरी तस्वीर भी वो ले गया।

💘

लगता है इस बार मुझे मोहब्बत होकर ही रहेगी,
आज रात ख्वाब में मैंने खुद को बरबाद होते देखा है…

💔

लगता है इस बार मुझे मोहब्बत होकर ही रहेगी,
आज रात ख्वाब में मैंने खुद को बरबाद होते देखा है…

💔😔💔

About the author

Asif Khan

Hey, My Name is Asif Khan i'm Blogger by Choice. I write about Health, Fitness, Internet and Tech.

Leave a Comment