ये 2 Motivational Stories in hindi बदल देंगी आपकी ज़िंदगी

STORY #1

Don’t be afraid to fail,Be afraid not to try

(हार से मत डरो,कोशिश न करने से डरो)

Image result for kheton ke paas nadi

एक गांव में दो दोस्त होते थे और उनका काम था की वो कुछ नहीं करते थे| वह पूरे समय बैठे रहते थे | एक दिन बैठे बैठे उन्होंने देखा की गांव की जो औरतें है वह बहुत दूर पानी भरने जाती है और वहां से सुबह शाम पानी लाती हैं क्योंकि उस गांव में सूखा था| फिर दोनों ने सोचा की इनकी जगह हम जायेंगे पानी भरने और 25 पैसे में एक मटका गांव वालों को दे देंगे  |

वे दोनों खाली रहते थे इसलिए  उन दोनों ने यह काम करना शुरू किया और मटके गाऊं में लेकर 25 25 पैसों में बाँटने शुरू कर दिए | अब उन दोनों का काम चल पड़ता है क्योंकि लोगों को पानी की बहुत जरूरत थी | लोगो ने उन्हें पैसे देने शुरू कर दिए और उनका काम बढ़ता गया | उन दोनों को मटके लाते लाते 10 साल बीत गए |

फिर एक दिन उन दोनों में से एक दोस्त ने दूसरे दोस्त से कहा की भाई “ऐसा कब तक चलेगा हम  रोज़ मटके भरने जाते हैं और रात तक यही करते हैं “कहा की आज हमारे अंदर दम है इसलिए कर पा रहे हैं अगर बीमार हो गए तब हमारे घर का चूल्हा कैसे जलेगा | दूसरे दोस्त ने कहा की मजे तो आ रहे हैं काम सही चल रहा है क्या जरूरत है कुछ और करने की |

फिर वह पहला दोस्त दूसरे गांव में चला गया यही सोच लेकर की उसे कुछ करना है पर पता उसको भी नहीं था की उसको क्या करना हैं ?उसने उस गांव में एक मजेदार चीज़ देखीं की यहाँ मटके की जगह लम्बी सी पाइप जैसी सुराई में पानी भरा जाता है | उसने सोचा अगर इसी  को बहुत लम्बा बना लिया जाये जिससे नदी से पानी गांव तक आ  सके तब तो परेशानी ही खत्म हो जाएगी |

इसे भी पढ़े-बड़ा बनने से कोई नहीं रोक सकता-Inspiring story 

उसने तुरंत यह बात जाकर अपने उसी दोस्त को बताई पर उसके दोस्त ने फिर से बहाने बना दिए की अगर पाइपलाइन टूट गयी तो ?अगर  उसमे कंकड़ फंस गए तो ?उसने हज़ार बात बना दी नहीं करने की | पर उसके दोस्त के पास एक वजह थी की उसको ऐसा काम करना है |

फिर उस दोस्त ने पाइपलाइन पर काम करना शुरू कर  दिया 3 महीने बाद पाइपलाइन बन गयी और पानी आना शुरू हो गया | उसका वह दोस्त जिसने बहाने बनाये थे वो अब unemployed हो गया | क्योंकि उसने वह 25 पैसे का मटका 10 पैसे में बेचना शुरू कर दिया | क्योंकि अब पाइपलाइन लग गयी थी वह जितने चाहता उतने मटके बेच सकता था | पानी के लिए दूसरे गांव के भी लोग आने लगे उसके पास और वे कहते की हमारे गांव में भी पाइपलाइन लगा दो धीरे धीरे देखते ही देखते वह आदमी उस गांव का नहीं ,उस कस्वे का नहीं उस पूरे शहर का सबसे अमीर आदमी बन गया |

इसे भी पढ़े-परीक्षा का फल-Motivational story 

STORY #2

Every moment is good to change everything

(हर पल अच्छा है खुद को बदलने के लिए)

पिछले महीने मुझे सब कुछ समझ आ गया , रोज़ की तरह अपने घर के पास वाले पार्क में वॉक कर रहा था एक दम से ही बहुत तेज़ बारिश होनी शुरू हो गयी | मैंने अपने दोनों हंथों से  अपने सर को ढका और पास में शेड में जाकर खड़ा हो गया | धीरे धीरे वहां कई और लोग भी इकठा हो गए | लोग तरह तरह की बाते कर रहे थे ,मई उनकी बातों को सुन रहा था| तभी मैंने एक चीज़ नोटिस करी की ज्यादातर लोगो का ध्यान बारिश की तरफ नहीं था,बारिश से होने वाली प्रोब्लेम्स की तरफ था |

इसे भी पढ़े-करनी का फल-Inspiring story 

फिर मैंने देखा की एक बच्ची वहां शेड के कुछ दूर खड़ी थी और अपने हांथों को फैलाकर बारिश की बूंदों को उनमे इकठा कर रही  थी और पी रही थी | इसी तरह करते करते उस बच्ची ने अपने पापा से पुछा की पापा यह बारिश रोज़ क्यों नहीं होती उसके पापा ने कोई जवाब नहीं दिया वे फ़ोन पर कुछ काम कर रहे थे |

पर मुझे सब कुछ समझ आ गया | उस  दिन मुझे सारे सवालों का जवाब मिल गया क्योंकि बारिश सब पर एक जैसी होती है कोई partiality नहीं करती चाहे वो छोटा-बड़ा हो,काला-गोरा हो,मोटा-पतला हो | क्योंकि उस बारिश में भी शक्ति होती है जिससे वह पूरी दुनिया को बना भी सकती है और तबाह भी कर सकती है |

फर्क सिर्फ इतना होता है की जब वह बारिश बरस रही होती है तब कुछ लोग हाथ उलटे करके खुद को बचाते है ,कुछ लोग हाथ  फैलाकर बारिश की बूंदों से खेलते हैं,पीते हैं | जिनका हाथ उल्टा होता है उनको वह बारिश छूकर करके बह जाती है | पर जिनका हाथ फैला हुआ होता है और  वह उस पानी को पीते हैं तब वह बारिश उनके अंदर अपनी शक्तियां डाल देती है | मतलब उसके अंदर सब कुछ ग्रहण करने की शक्ति होती है जिनका हाथ फैला होता है |

इसे भी पढ़े-अंधी भिखारिन Motivational story 

 

 

About the author

Asif Khan

Hey, My Name is Asif Khan i'm Blogger by Choice. I write about Health, Fitness, Internet and Tech.

Leave a Comment